Sanjib’s Mehfil

Hum aah bhi bharte hain toh ho jate hain badnam aur woh katal kar dete hain aur charcha bhi nahin hota…..क्या खूब मेरे कत्ल का तरीका तुने इजाद किया

रूकते तो शायद पा लेते मुझे तुम,
इश्क में इंतजार करते हैं जल्दबाजी नहीं..!!    रूकते तो शायद पा लेते मुझे तुम,
इश्क में इंतजार करते हैं जल्दबाजी नहीं..!!

कौन कहता है मुसाफिर जख्मी नही होते,
रास्ते गवाह हैं कम्बख्त गवाही नही देते

Advertisements